कुछ शेर

किसे पर्वाह है तेरी ऐ मजलूम ए जमाना
हर कोई ख़ुदा बननेकी कश्मकशमें है
_____

उठा लो कभी अपने ख़यालोंसे भी पर्दा
यह ना हो के पर्दा गिरे तो तनहा हो जाओ
_____

ना हुवे जख़्मको इतना भी ना सहलाओ
के जब लहू बहेगा सारे जा चुके होंगे
_____

तेरी ना सुनने की आदत जाती नहीं,
मेरी ना कहने की आदत जाती नहीं
कुछ ऐसा करते हैं की यह कारवाँ,
किसी ऐसे मोड़पे रुक जाए जहाँ
कोई कुछ बोलता नहीं कोई आवाज़ आती नहीं !
_____

बड़ा शौक़ है तुझे ज़ालिम, तो यह मकान तोड़ दे
उम्मीद का इम्तेहान ना ले, दिल सुमसान छोड़ दे
_____

मुडके देखा करो कभी पीछेभी
शायद कोई गलती दिखाई दे

_____

जिंदगी एक बारही मिलती है, बाकी सब बातें हैं दिल बहलानेके लिए
जीना ऐसे के वक़्त ए रुखसतमें राही, जिंदगी भी आए सहलानेके लिए

No comments.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Skip to toolbar